सूखा या अकाल पर निबंध – Essay on Drought in Hindi

Essay on Drought in Hindi: दोस्तो आज हमने सूखा या अकाल पर निबंध निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है।

सूखा या अकाल पर निबंध – Essay on Drought in Hindi

सूखा एक खतरनाक स्थिति है जो जीवन की गुणवत्ता को कम करती है। इसे हानिकारक प्रभावों के साथ एक प्राकृतिक आपदा के रूप में कहा जाता है। सूखा आमतौर पर तब होता है जब कोई क्षेत्र पानी की कमी का सामना करता है। यह मुख्य रूप से कम वर्षा के कारण है। इसके अलावा, सूखा मानव जाति और वन्यजीवों के लिए भी घातक साबित हुआ है।

Essay on Drought in Hindi

PDF को Download करने के लिए नीचे बटन पर Click करें। ताकि Download Button पर क्लिक करने के बाद आप PDF को Phone में Download कर पाएँ

इसके अलावा, सूखा एक किसान के लिए सबसे खतरनाक है। चूंकि उनके पास पानी की पर्याप्त आपूर्ति नहीं है, इसलिए उनकी फसल सूख जाती है। यह चिंता का कारण बन जाता है क्योंकि यह उनकी एकमात्र आय है। इसके अलावा, सूखा भी पर्यावरण और मानव जाति के लिए विभिन्न अन्य समस्याओं की ओर जाता है।

सूखे के कारण

सूखा विभिन्न कारणों से होता है। मुख्य कारणों में से एक वनों की कटाई है । जब पेड़ नहीं होंगे, तो जमीन पर पानी तेज गति से वाष्पित हो जाएगा। इसी तरह, यह पानी को धारण करने की मिट्टी की क्षमता को कम करता है जिसके परिणामस्वरूप वाष्पीकरण होता है। इसके अलावा, कम पेड़ों का मतलब कम बारिश भी है जो अंततः सूखे की ओर जाता है।

इसके अलावा, जैसे-जैसे जलवायु बदल रही है, जलस्रोत सूखते जा रहे हैं। इससे सतह के पानी का प्रवाह कम होता है। इसलिए, जब नदियां और झीलें सूख जाएंगी, तो लोगों को पानी कैसे मिलेगा? इसके अलावा, ग्लोबल वार्मिंग इसका एक प्रमुख कारण है। उत्सर्जित होने वाली ग्रीनहाउस गैस से पृथ्वी का तापमान बढ़ता है। इस प्रकार, यह उच्च वाष्पीकरण दर के परिणामस्वरूप होता है।

इसके बाद, अत्यधिक सिंचाई भी सूखे का एक बड़ा कारण है। जब हम पानी का गैर-उपयोग करते हैं, तो सतह का पानी सूख जाता है। चूंकि इसे फिर से भरने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलता है, यह सूखे का कारण बनता है।

सूखे का असर

सूखा एक गंभीर आपदा है जो पूरे मानव जाति, वन्य जीवन और वनस्पति को बहुत प्रभावित करती है। इसके अलावा, एक क्षेत्र जो सूखे का अनुभव करता है उसे आपदा से उबरने के लिए बहुत समय की आवश्यकता होती है। यह एक गंभीर स्थिति है जो जीवन की गुणवत्ता और कार्यप्रणाली में हस्तक्षेप करती है।

सबसे महत्वपूर्ण बात, कृषि क्षेत्र सूखे के हाथों सबसे अधिक पीड़ित है। उदाहरण के लिए, किसानों को फसल उत्पादन, पशुधन उत्पादन का नुकसान होता है। इसके अलावा, वे पौधे की बीमारी और हवा के कटाव का अनुभव करते हैं। इसी तरह, उन्हें भारी वित्तीय नुकसान का भी सामना करना पड़ता है। उनकी वित्तीय स्थिति खराब हो जाती है और वे कर्ज में डूब जाते हैं। इससे अवसाद और आत्महत्या की उच्च दर भी होती है।

इसके अलावा, वन्यजीव भी पीड़ित हैं। उन्हें पीने के लिए पानी के स्रोत नहीं मिलते। इसके अलावा, जब सूखे के कारण जंगल में आग लगती है, तो वे अपने आवास और जीवन को भी खो देते हैं। किसी भी प्राकृतिक आपदा की तरह , सूखे के कारण भी कीमतों में वृद्धि होती है। बुनियादी उत्पाद महंगे हो जाते हैं। उच्च दर के कारण गरीब लोगों को आवश्यक खाद्य पदार्थों तक पहुँच नहीं मिलती है। इसके बाद, सूखा भी मिट्टी की गुणवत्ता को खराब करता है। इससे फसल खराब होती है या फसलों की पैदावार नहीं होती है।

500+ Essays in Hindi – सभी विषय पर 500 से अधिक हिन्दी निबंध

संक्षेप में, सूखा निश्चित रूप से सबसे विनाशकारी प्राकृतिक आपदाओं में से एक है। यह जीवन, वनस्पति के नुकसान का कारण बनता है और अकाल जैसी अन्य घातक समस्याओं को जन्म देता है। हजारों लोगों की जान बचाने के लिए नागरिकों और सरकार को सूखे से बचने के लिए हाथ मिलाना चाहिए। यह संयुक्त प्रयास दुनिया को इस तरह की तबाही से बचाने में मदद कर सकता है।

More Essays

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here