पर्यावरण पर निबंध – Environment Essay in Hindi

Environment Essay in Hindi: दोस्तो आज हमने पर्यावरण पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखा है।

पर्यावरण पर निबंध – Environment Essay in Hindi

पर्यावरण पर निबंध – इस धरती पर रहने वाली सभी जीवित चीजें पर्यावरण के अंतर्गत आती हैं। चाहे वे जमीन पर रहें या पानी पर वे पर्यावरण का हिस्सा हैं। पर्यावरण में हवा, पानी, सूरज की रोशनी, पौधे, जानवर आदि शामिल हैं।

Environment Essay in Hindi

PDF को Download करने के लिए नीचे बटन पर Click करें। ताकि Download Button पर क्लिक करने के बाद आप PDF को Phone में Download कर पाएँ

इसके अलावा, पृथ्वी को ब्रह्मांड में एकमात्र ग्रह माना जाता है जो जीवन का समर्थन करता है। पर्यावरण को एक कंबल के रूप में समझा जा सकता है जो ग्रह ऋषि और ध्वनि पर जीवन रखता है।

पर्यावरण का महत्व

हम वास्तव में पर्यावरण के वास्तविक मूल्य को नहीं समझ सकते हैं। लेकिन हम इसके कुछ महत्व का अनुमान लगा सकते हैं जो हमें इसके महत्व को समझने में मदद कर सकते हैं। यह पर्यावरण में जीवित चीजों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इसी तरह, यह पारिस्थितिक संतुलन को बनाए रखता है जो पृथ्वी पर जीवन की जांच रखेगा। यह भोजन, आश्रय, वायु प्रदान करता है, और मानव की सभी जरूरतों को पूरा करता है चाहे वह बड़ा हो या छोटा।

इसके अलावा, मनुष्य का संपूर्ण जीवन समर्थन पर्यावरणीय कारकों पर पूरी तरह निर्भर करता है। इसके अलावा, यह पृथ्वी पर विभिन्न जीवन चक्रों को बनाए रखने में भी मदद करता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात, हमारा पर्यावरण प्राकृतिक सौंदर्य का स्रोत है और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

पर्यावरण के लाभ

पर्यावरण हमें अनगिनत लाभ देता है जिन्हें हम अपने पूरे जीवन में नहीं चुका सकते हैं। जैसे वे जंगल, पेड़, जानवर, पानी और हवा से जुड़े होते हैं। जंगल और पेड़ हवा को फ़िल्टर करते हैं और हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं। पौधे पानी को शुद्ध करते हैं, बाढ़ की संभावना को कम करते हैं और प्राकृतिक संतुलन बनाए रखते हैं।

इसके अलावा, पर्यावरण पर्यावरण और इसके कामकाज पर कड़ी निगरानी रखता है, यह उन महत्वपूर्ण प्रणालियों को नियंत्रित करता है जो पारिस्थितिकी तंत्र के लिए आवश्यक हैं। इसके अलावा, यह पृथ्वी पर जीवन की संस्कृति और गुणवत्ता को बनाए रखता है।

पर्यावरण प्रतिदिन होने वाले विभिन्न प्राकृतिक चक्रों को नियंत्रित करता है। ये चक्र जीवित चीजों और पर्यावरण के बीच प्राकृतिक संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। इन चीजों की गड़बड़ी अंततः मनुष्यों और अन्य जीवित प्राणियों के जीवन चक्र को प्रभावित कर सकती है।

पर्यावरण ने हमें और अन्य जीवित प्राणियों को हजारों वर्षों से फलने और फूलने में मदद की है। पर्यावरण हमें उपजाऊ भूमि, पानी, हवा, पशुधन और अस्तित्व के लिए कई आवश्यक चीजें प्रदान करता है।

पर्यावरणीय गिरावट का कारण

मानवीय गतिविधियाँ पर्यावरण के क्षरण का प्रमुख कारण हैं क्योंकि अधिकांश गतिविधियाँ किसी न किसी तरह से पर्यावरण को नुकसान पहुँचाती हैं। पर्यावरण के क्षरण का कारण बनने वाले मनुष्यों की गतिविधियाँ प्रदूषण, दोषपूर्ण पर्यावरण नीतियां, रसायन, ग्रीनहाउस गैसें, ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन रिक्तीकरण आदि हैं।

ये सभी पर्यावरण को बुरी तरह प्रभावित करते हैं। इसके अलावा, इन प्राकृतिक संसाधनों के अति प्रयोग से भविष्य में ऐसी स्थिति पैदा होगी जहां उपभोग के लिए कोई संसाधन नहीं होंगे। और जीवित हवा की सबसे बुनियादी आवश्यकता इतनी प्रदूषित हो जाएगी कि मनुष्य को सांस लेने के लिए बोतलबंद ऑक्सीजन का उपयोग करना होगा।

500+ Essays in Hindi – सभी विषय पर 500 से अधिक हिन्दी निबंध

इन सबसे ऊपर, बढ़ती मानव गतिविधि पृथ्वी की सतह पर अधिक दबाव बढ़ा रही है जो अप्राकृतिक रूप से कई आपदाओं का कारण बन रही है। इसके अलावा, हम प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग इस गति से कर रहे हैं कि कुछ ही वर्षों में वे पृथ्वी से गायब हो जाएंगे।

निष्कर्ष निकालने के लिए, हम कह सकते हैं कि यह पर्यावरण है जो हमें जीवित रख रहा है। पर्यावरण के कंबल के बिना, हम जीवित नहीं रह पाएंगे। इसके अलावा, जीवन के लिए पर्यावरण के योगदान को चुकाया नहीं जा सकता। इसके अलावा, अभी भी पर्यावरण ने हमारे लिए क्या किया है, बदले में हमने केवल इसे नुकसान और क्षति पहुंचाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here