10 Lines on Mangalyaan in Hindi – मंगलयान पर 10 पंक्तियाँ

अंतरिक्ष हमेशा से खोजबीन करने और नई चीजों और तथ्यों को जानने का विषय रहा है। कई डेटा से पता चलता है कि अंतरिक्ष में सर्फ करने के लिए किए गए सभी वैज्ञानिक प्रयासों ने अंतरिक्ष के बारे में मानव के लिए बहुत सारी जानकारी एकत्र की है लेकिन जिस क्षेत्र का हमने पता लगाया है वह कुल ब्रह्मांड का 1% भी नहीं है जिसका अर्थ है कि अभी तक का पता लगाने के लिए बहुत कुछ है मनुष्यों के लिए। प्रत्येक देश ने अपने स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है और सफल भी हुआ है और उस श्रृंखला में, भारत अंतरिक्ष अन्वेषण में शीर्ष देशों में शामिल है। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) ने मंगलयान के क्षेत्र में कई मील के पत्थर हासिल किए हैं।

Mangalyaan Essay 10 lines and more sentences. Short essay on Mangalyaan and few more lines for Ukg Kids, class 1,2,3,4,5,6,7,8,9 & 10 class students.

10 Lines on Mangalyaan in Hindi

1. ‘मंगलयान’ भारत द्वारा हमारे सौर मंडल में मंगल ग्रह की परिक्रमा के लिए एक अंतरिक्ष जांच का नाम है।

2. ‘मंगलयान’ पर 5 इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) द्वारा शुरू किया गया था वें नवंबर 2013।

3. मंगल की सतह, वातावरण, खनिज विज्ञान और आकारिकी का पता लगाने के लिए मंगलयान को लॉन्च किया गया था।

4. माइलस्वामी अन्नादुराई मंगलयान के कार्यक्रम निदेशक थे और चंद्रयान 1 और 2 के परियोजना निदेशक भी।

5. इसे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से रॉकेट ‘PSLV-XL C25 के माध्यम से लॉन्च किया गया था।

6. मंगलयान का टेक-ऑफ द्रव्यमान 1337.2 किलोग्राम था जिसमें द्रव्यमान का ईंधन 852 किलोग्राम था।

7. 15 किलो के साथ मंगलयान। पेलोड में लाइमैन-अल्फा फोटोमीटर, मीथेन सेंसर, मार्स एक्सोस्फेरिक न्यूट्रल कंपोजिशन एनालाइजर, थर्मल इंफ्रारेड इमेजिंग स्पेक्ट्रोमीटर और मार्स कलर कैमरा शामिल हैं।

8. मिशन, जिनमें से 7 7 उपभू जलता में आयोजित किया गया वें पर 30 वें नवंबर 2013।

9. 30 पर वें नवम्बर 2013, उपग्रह 78 करोड़ किलोमीटर की दूरी तय करने मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश किया।

10. मंगलयान को केवल 6 महीने के लिए प्रक्षेपित किया गया था, लेकिन अभी भी मिशन पर है।

10 Lines on Mangalyaan in Hindi for Class Ukg Kids,1,2,3,4,5,6,7,8,9 & 10

मंगलयान पर 10 पंक्तियों का एक और सेट हमारे द्वारा पाठक के लिए बनाया गया है। सेट कुछ अतिरिक्त डेटा के साथ तैयार किया गया है जो पाठक को विषय पर कुछ अन्य जानकारी प्राप्त करने में मदद कर सकता है। सेट बनाने में आसान भाषा का उपयोग सेट को दोनों, निम्न कक्षाओं के साथ-साथ उच्च कक्षाओं के पाठक के लिए उपयोगी बनाता है और दिए गए सभी बिंदुओं के साथ सेट को आसानी से पढ़ा और समझा जा सकता है। तो चलिए मंगलयान के बारे में अधिक जानकारी के लिए दूसरा सेट पढ़ें।

1. मंगलयान, भारत का पहला ग्रहों के बीच अंतरिक्ष जांच मंगल ग्रह 5 के बाद से परिक्रमा करता है वें नवंबर 2014।

2. मंगलयान को वहां जीवन के अस्तित्व का सुराग पाने के लिए मंगल ग्रह पर मीथेन की तलाश करनी है।

3. 450 करोड़ की कुल लागत के साथ, मंगलयान को अब तक के सबसे सस्ती अंतरिक्ष मिशन के रूप में स्वीकार किया गया है।

4. मंगलयान भारत का पहला मंगल अभियान था और अंततः उसने पहले प्रयास में भारत को मंगल पर पहुंचने वाला पहला एशियाई देश बना दिया।

5. मंगलयान ने लॉन्च के बाद पृथ्वी की कक्षा में लगभग 1 महीने का समय बिताया और 5 साल से अधिक समय से मंगल की कक्षा में है।

6. मंगलयान को बैंगलोर के ISRO टेलीमेट्री, ट्रैकिंग और कमांड नेटवर्क के स्पेसक्राफ्ट कंट्रोल सेंटर से ट्रैक किया जा रहा है।

7. मंगलयान पर 28 शुरू होने की प्रस्तावित किया गया था वें अक्टूबर 2013 को शुरू किया गया था 5 वीं प्रशांत महासागर पर खराब मौसम की वजह से नवंबर।

8. मंगलयान द्वारा भेजा गया कोई भी डेटा 14 मिनट में इसरो के संचार पैनल तक पहुंच जाता है।

9. 24 वीं मार्च 2015, मंगलयान 6 महीने के अपने पहले कार्यकाल पूरा किया।

10. मंगलयान पर 24 5 साल सफलतापूर्वक पूरा कर लिया वें सितंबर 2019।

500+ Essays in Hindi – सभी विषय पर 500 से अधिक निबंध

मंगलयान भारत का पहला मंगल मिशन था, जिसमें जीवन के अस्तित्व के लिए चाँद तलाशने की उम्मीद थी। इसकी सफलता ने साफ कर दिया कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत विकसित देशों से पीछे है। इतने सस्ते और अच्छे रणनीतिक मिशन के लिए भारत को वैश्विक स्तर पर सराहना मिली। यहां तक कि भारतीय रिजर्व बैंक (भारतीय रिजर्व बैंक) ने भी 8 पर 2000 जारी करके घटना की सालगिरह मनायी वें नवंबर वर्ष 2016 जो मंगलयान की एक छवि है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here